Email ID : {{site_email}}
Contact Number : {{site_phone}}

मां लक्ष्मी जी की पुजन विधि

मां लक्ष्मी जी की पुजन विधि-

 

बडी दीवाली पर मां लक्ष्मी की पुजा की जाती है। अगर पुजा पूरे विधि पुर्वक की जाये तो आप पुरे साल उचित लाभ मिलेगा। आइये जानते है मां लक्ष्मी जी पुजा कैसे की जाती है-

 

पुजन सामग्री-

 

गंगाजल, लक्ष्मी व गणेश जी की मुर्ति, फुलमाला, फुल, पान-सुपारी, लौंग, केले, नारियल, कलश, कलावा, रोली, चावल, दीये, तेल, शुध्द देशी घी, रंगोली बनाने के लिए हल्दी व रोली का उपयोग करे, अगरवत्ती व घूप।

 

मां लक्ष्मी जी की पुजन विधि-

 

1. मां लक्ष्मी व गणेश जी की मुर्ति को एक लाल कपडे को बिछाकर स्थापित करें। फिर उनके समाने एक रंगोली बनायें। ओर उसके बीचो बीच मां लक्ष्मी जी व गणेश जी का नाम लेते हुए एक दीये को स्थापित करें।

 

2. एक कलश में पानी भर के उसमें गंगाजल डालकर नारियल स्थापित करें। ये कलश मां लक्ष्मी व गणेश जी की मुर्ति के दाये ओर स्थापित करें।

 

3. उसके पश्चात् रोली व चावल को मिलकर मां लक्ष्मी व गणेश जी को तिलक लगायें।

 

4. तिलक के पश्चात् उन्हे फूलमाला चढायें। इस मंत्र के द्वारा का जाप करें।

 

कर- कृतं वा कायजं कर्मजं वा,

 

। श्रवण- नयनजं वा मानसं वाडपराधम् ।

 

विधितमविदितं वा, सर्वमेतत् क्षमस्व,

 

। जय जय करुणाब्धे, श्रीमहा-लक्ष्मि त्राहि ।

 

।। श्रीलक्ष्मी- देव्यै मन्त्र पुषपाञ्जविं समर्पयामि ।।

 

5. उसके पश्चात् मां लक्ष्मी की आराधना इस मंत्र के द्वारा 108 बार करें-

 

।। ओम महालक्ष्मयै नम: ।।

 

6. उसके पश्चात् मां लक्ष्मी को पान-सुपारी व लौंग अर्पित करे। उसके पश्चात् फल व मिठाई से भोग लगायें।

 

7. उसके पश्चात् इस मंत्र द्वारा मां लक्ष्मी को को नस्कार करें।

 

। ओम भवानि। त्वं महा- लक्ष्मी: सर्व- काम प्रदाचिनी।

 

। प्रसन्ना सन्तुष्टा भव देवि। नमोडस्तु ते।

 

।। अनेन पूजनेन श्रीलक्ष्मी- देवी प्रीयताम्, नमो नम: ।।

 

8. इस मंत्र का उपयोग सबसे अन्त में किया जाती है अगर मंत्र जाप करते वक्त हम लोग कोई न कोई भूल हो ही जाती है। इस मंत्र का जाप करें हम लक्ष्मी जी से अपनी गलती की क्षमा मागंते है।

 

।। आवाहनं न जानामि, न जानामि विसर्जनम्।।

 

।। पुजा- कर्म न जानामि, क्षमस्व परमेश्र्वरि।।

 

। मन्त्र- हीनं क्रिया-हीनं, भक्ति- हीनं सुरेश्र्वरि।

 

। मया यत्- पुजितं देवि। परिपूर्ण तदस्तु मे।।

 

। अनेन यथा- मिलितोपचार- द्रव्यैं: कृत- पूजनेन श्री लक्ष्मी- देवी प्रीयताम्।

 

।। श्री लक्ष्मी- देव्यै अर्पणमस्तु।।

Book Diwali Puja

Diwali is the festival which marks the win of dharma over adharma, it was the day when lord Rama the seventh incarnation of Vishnu came back to ayodhya after an exile period of fourteen years, the whole of universe celebrated this event like never witnessed before. Read more...

Diwali Pujan Kit

If you do not have time to arrange all essential Diwali Puja items, then you must consider this special Diwali Puja Kit. It does not save your time but money too. There is no need to go anywhere else. This special Diwali Puja kit is jam-packed with all essential Pujan samagari. Read more...

Tantrik Activities at Diwali

A lot is present around us that we don’t understand, but it is what affects us, you can feel the wind but you can’t see it, it can destroy everything and still you cannot stop it because you don’t have the power to understand it. A tantrik service can help remove any effect you have in your life because of tantra and black magic which affects the different sections of your life such as Read more...
Send Enquiry to Get Solution