Email ID : {{site_email}}
Contact Number : {{site_phone}}

हनुमान पूजा सम्पूर्ण विधि मंत्रो सहित हिंदी में

हनुमान जी पुजा करने से अनेक प्रकार के दुखों का अंत होने लगता है। हनुमान जी की पुजा मंगलवार या हनुमान जंयती पर करना अत्यंत शुभ माना जाता है।

 

जब भी आप हनुमान जी की पुजा करें तो पुरे विधि विधान के साथ जरुर करें। पुरे विधि विधान से करने से भगवान हनुमान अत्यंत प्रसन्न होते है और मनवांछित फल देते है।

 

पुजन विधि

 

  1. सर्वप्रथम जो भी पुजा करें उससे पहले जरुर स्नान करें। चाहे आप ने उस दिन स्नान क्यों न कर रखा हो।
  2.  

  3. फिर उसके पश्चात् ध्यान दे जो भी आप पुजा करें वह पुजा पुर्व दिशा की तरफ मुख करके ही करें। यह देवताओं की दिशा मानी जाती है।
  4.  

  5. इसलिये जरुरी है पुजा का स्थान भी उसी जगह हो। सर्वप्रथम भगवान हनुमान जी व भगवान गणेश की पुजा स्थापित करें।
  6.  

  7. कोई भी पुजा क्यो न हो उस में गणेश जी प्रतीमा को भी विशेष स्थान दें। बिन गणेश जी की पुजा के कोई पुजा पुर्ण नही होती है। गणेश जी सभी देवता में प्रथम स्थान पर पुजे जाते है।
  8.  

  9. भगवान हनुमान जी व भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करने के बाद उनके सामने घी का दीपक जलायें।
  10.  

  11. उसके बाद दोनों भगवान का आह्वान करें।
  12.  

  13. आह्वान करने के पश्चात् भगवान हनुमान जी को सिंदुर समर्पित करे। सिंदुर भगवान हनुमान जी को बहुत प्रिय है। सिंदुर समर्पित करते वक्त इस मंत्र का जाप जरुर करें।
  14.  

    ।। दिव्यनागसमुभ्दुतं सर्वमंगतारकम् ।।

    ।। तेताभ्यंगयिष्यामि सिंदुरं गृह्यतां प्रभो ।।

     

  15. सिंदुर समर्पित करने के बाद पुष्प समर्पित करे व इस मंत्र का जाप भी करते रहे
  16.  

    ।। नीलोत्पते कोकनदै कह्रारे कमलेरपि ।।

    ।। कुमुदे पुण्डरीकेस्त्वां पूजियामि कपीश्र्वर ।।

     

  17. पुष्प समर्पित करने के बाद भगवान हनुमान को जल समर्पित करे।
  18.  

  19. जल समर्पित करने के बाद लड्डु समर्पित करे।
  20.  

  21. लड्डु समर्पित करने के बाद तुलसी समर्पित करें।
  22.  

  23. उसके पश्चात् उनकी आरती गा कर आरती उतरें।
  24.  

  25. आखिरी में हनुमान जी से क्षमा-प्रार्थना करते हुय इस मंत्र का जाप करे।
  26.  

    ।। मन्त्रहींनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं कपीश्र्वर ।।

    ।। यत्पूजितं मया देव परिपूर्ण तदस्तु में ।।

 

मंत्र

 

।। ओम दक्षिणमुखाय पच्चमुख हनुमते करातबदनाय ।।

।। नारसिंहाय ओम हां हीं हू ह सकलभीतप्रेतदमनाय स्वाहा ।।

 

आवश्यक सामाग्री

 

  1. लकडी का पतटा
  2. लाल रंग का कपडा
  3. हनुमान जी का प्रतिमा
  4. चावल
  5. तुलसी
  6. धुप
  7. अगरबत्ती
  8. घी
  9. चन्दन
  10. सिन्दुर
  11. रोली
  12. कलावा
  13. पुष्प
  14. फुलमाला
  15. जल
  16. बुंदी के लड्डु

 

For more details, you can contact us at +919870286388 or email us at contact@kamiyasindoor.com